Skip to main content

Posts

Showing posts from 2020

मुसाफिर

तू मेरी मंज़िल नहीं हैं ऐ जिंदगी... मुसाफिर हूं इसलिए निकला हूं इस रास्ते पर...! ✍️✍️✍️मयंक जैन

Samay

समय रूक सा गया हैं तेरे जाने के बाद... अभी कल ही की बात लगती है जब हम मिले थें ✍️✍️✍️मयंक जैन