Skip to main content

Posts

Showing posts from August, 2018

Mohabbat

सबूत ही तो नहीं है बस मेरे पास तेरी मोहब्बत का वरना हम यूं ही खड़े नहीं होते गुनहगारों की लाइन में...! ✍✍✍✍  मयंक जैन

Numaish

हम नहीं करते सर-ए-बाजार अपने दिल की नुमाइश उनसे ही पूछ लो उनकी बेवफाई की वजह क्या है....! ✍✍✍✍  मयंक जैन

Jindagi

ख्वाबों में नहीं लिखी जाती जिंदगी की किताब हकीकत से उसे रूबरू होना ही पड़ता है...! ✍✍✍✍  मयंक जैन