12 August 2018

Numaish


हम नहीं करते सर-ए-बाजार अपने दिल की नुमाइश
उनसे ही पूछ लो उनकी बेवफाई की वजह क्या है....!

✍✍✍✍  मयंक जैन

1 comment:

write your view...

Shatranj ka khel

मेरी जिंदगी कोई शतरंज का खेल नहीं है ऐ सनम जहां मोहरा भी तेरे हाथ में और चाल भी तेरी ✍✍ मयंक जैन