1 July 2018

Kirdar



हम हसीनाओं के दिलों पर राज यूं ही नहीं करते
ये तो कशिश है मेरे किरदार की
कि जिसने मुझे एक बार देखा बस मेरा मरीज़ हो गया

✍✍✍✍  मयंक जैन

No comments:

Post a Comment

write your view...

Shatranj ka khel

मेरी जिंदगी कोई शतरंज का खेल नहीं है ऐ सनम जहां मोहरा भी तेरे हाथ में और चाल भी तेरी ✍✍ मयंक जैन